डायबिटीज के मरीज के लिए रामबाण है ब्रोकली, जानें फायदे

October 12, 2017 - hetu chauhan

No Comments

डायबिटीज ऐसा रोग है जो सीधे तौर पर हमारे लाइफस्टाइल से जुड़ा हुआ है। हालांकि एक बड़ी संख्या ऐसी भी है जिसे ये रोग जेनिटिक फैलता है। लेकिन अगर लाइफस्टाइल में सुरक्षा बरती जाए तो इस रोग को मात दी जा सकती है। लेकिन आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी, अनियमित खानपान और तनाव भरे जीवने के चलते अधिकतर लोगों का लाइफस्टाल बिगड़ा हुआ है। आॅफिस की भागदौड़ की वजह से लोग बाहर का खाना खाने को मजबूर हैं। लेकिन फास्टफूड डायबिटीज के लिए बहुत ज्यादा नुकसानदेह है।
हाल ही में हुई गोथेबुर्ग यूनिवर्सिटी में हुई एक रिसर्च के मुताबिक ब्रोकली का सेवन करने से डायबिटीज टाइप 2 की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। ब्रोकली में भरपूर मात्रा में फाइबर और विटामिन्स होते है। जो शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा को कंट्रोल करते हैं। इसके अलावा ब्रोकली में कई ऐसे गुण होते हैं जो डायबिटीज को कंट्रोल करते हैं।

ब्रोकली की खासियत

ब्रोकली एक सुपरफूड है। इसमें संतरे से ज्यादा विटामिन सी पाया जाता है। इसके साथ ही ब्रोकली में भरपूर मात्रा में फाइबर, मिनरल्स, फाइटोकेमिकल्स, कैल्शियम, कम मात्रा में कैलोरी और कई अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह सभी गुण डायबिटीज के लिए बहुत फायदेमंद हैं। ब्रोकली में पाया जाने वाला सल्फोराफेन जो कि एक कार्बनिक सल्फर यौगिक है यह डायबिटीज से लड़ने में बहुत कारगार है।
  • ब्रोकली के फायदे।
  • डायबिटीज में ब्रोकली।
  • सुपरफूड है ब्रोकली।
  • ब्रोकोली विटामिन सी से भरी हुई है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली के समुचित कार्य को बनाए रखने के लिए एक महान पोषक तत्व मानी जाती है।
  • ब्रोकोली क्रोमियम का बहुत अच्छी स्रोत है, जो मधुमेह पर नियंत्रण और शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को नियंत्रित करती है। शोधकर्ताओं के अनुसार, ब्रोकोली में बीटा कैरोटीन होता है जो आंखों में मोतियाबिंद और मस्‍कुलर डीजेनरेशन होने से रोकती है।
  • यह माना जाता है कि ब्रोकोली में यौगिक सल्‍फोरापेन होता है जो यूवी रेडियेशन के कारण होने वाले प्रभाव से त्वचा को नुकसान पहुंचाने और सूजन को कम करने में सहायक होती है।
  • ब्रोकोली में कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम और जिंक होता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाता है। इसलिए, यह बुजुर्गों और गर्भवती महिलाओं के लिये बहुत अच्‍छी मानी जाती है क्‍योंकि इनमें ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बहुत ज्‍यादा होता है।
  • ब्रोकली शरीर को एनीमिया और एल्‍जाइमर से बचाती है क्‍योंकि इसमें बहुत ज्‍यादा आइरन और फोलेट पाया जाता है।
  • ब्रोकोली को नियमित खाने से गर्भवती महिलाओं को मदद मिलती है। यह फोलेट का एक अच्छा स्रोत है जो भ्रूण में मस्तिष्क संबंधी दोषों को रोकने में मदद करती है।
  • डाइट में ब्रोकली को शामिल करने से कुछ तरह के कैसर जैसे स्‍तन कैंसर, लंग और कोलोन कैंसर के रिस्‍क को कम करती है। इसमें फाइटोकेमिकल्स होने के कारण, यह एंटी कैंसर न्‍यूट्रिशनल वेजिटेबल है।
  • यह फाइबर, क्रोमियम, और पोटेशियम का अच्‍छा स्‍त्रोत है, जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है और रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है।
  • ब्रोकोली में कैरोटीनॉयड ल्‍यूटिन होता है जो हृदय की धमनियों को मोटा होने से रोकता है, जिससे हार्ट अटैक और अन्‍य हार्ट सबंधी बीमारियों का रिस्‍क टलता है।
  • ब्रोकली खाने से न केवल स्‍वास्‍थ्‍य और पोषण मिलता है, बल्कि इस‍में लो कैलोरी होने की वजह से वजन भी कम होता है। अब आप जब भी सब्‍जियां खरीदने जाएं, तो ब्रोकली को कभी नजरअंदाज न करें।
No tags for this post.

hetu chauhan

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *