इंसान के शरीर में धड़केगा जानवर का दिल!

December 7, 2018 - Himalaya

No Comments

वह दिन दूर नहीं जब पशुओं के अंगों को इंसानों के शरीर में प्रत्यारोपित किया जा सकेगा।

वैज्ञानिक इस ओर तेजी से कदम बढ़ा रहे हैं। गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों के शरीर में सुअर का दिल लगाने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ गई है। जर्मनी के वैज्ञानिकों ने पूरे मेडिकल व विज्ञान जगत को अपने नए प्रयोग से हैरान कर दिया है।

इन्होंने एक बैबून (बंदर की प्रजाति) के शरीर में सफलतापूर्वक सुअर का दिल लगा दिया। सुअर के दिल के साथ ही यह बैबून छह महीने से ज्यादा समय (195 दिन) तक जीवित रहा। वैज्ञानिकों ने इस बेहद अहम प्रयोग की सराहना की है और इसे एक मील का पत्थर बताया है। एक पशु के स्वस्थ दिल को दूसरी प्रजाति के शरीर में प्रत्यारोपित करने की प्रक्रिया को ‘एक्सेनाट्रांस्प्लांटेशन’ कहा जाता है। ‘नेचर जर्नल’ में प्रकाशित इस अध्ययन में माना जा रहा है कि इस प्रक्रिया से भविष्य में इंसानों को भी नया जीवन दिया जा सकेगा। प्रत्यारोपण के लिए सुअरों के जीन में बदलाव किया गया ताकि दूसरी प्रजाति के प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को दबाया जा सके।

अंग प्रत्यारोपण के लिए लंबा इंतजार : 
दुनियाभर में प्रत्यारोपण के लिए अंग पाने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ता है। कई गंभीर बीमारियों में तो अगर प्रत्यारोपण सफल न हो, तो व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। ‘जर्मन हर्ट सेंटर बर्लिन’ के डॉक्टर क्रिस्टोफ नोसाला का कहना है, ‘2030 तक अमेरिका में दिल का दौरा पड़ने के मामले 80 लाख तक पहुंच सकता है।’ जीन में बदलाव वाला सुअर इस समस्या का समाधान हो सकता है।

इस तरह के शोध में पहले भी सीमित सफलता मिली थी। म्यूनिख में लुडविग-मैक्समिलियन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता बैबून को 57 दिन तक जीवित रखने में कामयाब रहे थे। शोधकर्ताओं ने तीन अलग-अलग समूहों पर यह प्रयोग किया। पूरे अध्ययन के दौरान 16 बैबून शामिल थे। अंतिम ग्रुप में उन्होंने प्रत्यारोपण में सफलता पाई। हृदय रोग के प्रोफेसर क्रिस्टोफर मैक्ग्रेगॉर उस अध्ययन में शामिल थे, जिसमें बैबून को 57 दिनों तक जीवित रखा गया था। उन्होंने कहा, ‘यह अध्ययन काफी अहम है। यह हमें दिल की बीमारी की समस्या को खत्म करने की राह दिखाता है।’

इस तरह किया प्रत्यारोपण : 
शोधकर्ताओं ने दिल को ऑक्सीजन पहुंचाते हुए इस लंबी प्रक्रिया को अंजाम दिया। इसके लिए उन्होंने पूरे समय अंग में रक्त परिसंचरण किया। इस वजह से बैबून का रक्तचाप कम होने के बावजूद प्रत्यारोपित अंग का आकार नहीं बढ़ा। अंतिम समूह के पांच में से चार बैबून 90 दिनों तक स्वस्थ रहे जबकि एक 195 दिनों तक सही रहा।

क्या है  ‘एक्सेनाट्रांसप्लांटेशन’ :
एक पशु के शरीर से स्वस्थ हृदय का दूसरी प्रजाति में प्रत्यारोपण करने की प्रक्रिया को ‘एक्सेनाट्रांसप्लांटेशन’ कहा जाता है। माना जा रहा है कि इस प्रक्रिया से दिल की गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों की नई जिंदगी दी जा सकेगी।

Himalaya

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *