अनजान शहर में आपका नया गाइड ‘नेबरली’

August 30, 2018 - Himalaya

No Comments

गूगल का नया एप ‘नेबरली’ आपको अनजान शहर में भी कोई महसूस नहीं होने देगा। एक अच्छे गाइड की तरह वह हर मोड़ पर आपको रास्ता दिखाएगा। गूगल ने इसके लिए ‘नेबरली’ एप को पेश किया है। इस पर लोग आस-पड़ोस की हर जानकारी आपस में साझा कर सकते हैं।

हिंदी, अंग्रेजी समेत आधा दर्जन से अधिक भाषाओं में उपलब्ध इस एप पर टाइप करने की जरूरत नहीं है। आप चाहें तो बोलकर भी सवाल पूछ सकते हैं। गूगल की ‘नेक्स्ट बिलियन यूजर’ शाखा के उत्पाद प्रबंधक बेन फोह्नर के मुताबिक, ‘नेबरली किसी यूजर को उसके पास-पड़ोस से डिजिटली तौर पर जोड़ने का काम करता है। इस पर वह सवाल-जवाब कर स्थानीय जानकारी को हासिल कर सकता है। यूजर ही एक-दूसरे को ये जानकारी प्रदान करते हैं। एक तरह से यह एप सूचना का लोकतंत्रीकरण करता है।’

मुंबई-जयपुर में सेवा शुरू : 
गूगल के इस उत्पाद को विकसित करने में अहम भूमिका निभाने वाले फोह्नर ने बताया कि अभी इस सेवा को मुंबई और जयपुर में शुरू किया गया है। अन्य शहरों के लिए कंपनी ने एक प्रतीक्षा सूची बनाई है। एक निश्चित सीमा में एप डाउनलोड होने और उस पर लोगों के पंजीकरण के बाद इसे अन्य शहरों में शुरू किया जाएगा।

फोन साझा करने की भी जरूरत नहीं : 
डाटा सुरक्षा को लेकर बढ़ती चिंताओं के बारे में फोह्नर ने कहा, ‘इस एप को उपयोग करने के लिए लोगों को अपना फोन नंबर साझा नहीं करना होता है। ना ही उन्हें कोई सीधा संदेश, स्क्रीनशॉट या प्रोफाइल फोटो इत्यादि साझा करनी होती है। यूजर सिर्फ अपने पहले नाम का उपयोग कर इस एप पर सवाल-जवाब कर सकते हैं।’

ऐसे करेगा काम : 
मान लीजिए कोई जयपुर की छोटी चौपड़ पर खड़ा होकर ‘नेबरली’ पर पूछता है कि आसपास मिठाई की अच्छी दुकान कौन-सी है तो यह संदेश एप पर मौजूद सभी स्थानीय लोगों तक पहुंच जाएगा। फिर वे अपना जवाब एप पर दे सकते हैं। इसी तरह आसपास गणित के अच्छे अध्यापक या अच्छे बुटीक या ब्यूटी पार्लर की जानकारी लोग इस एप पर सवाल पूछकर हासिल कर सकते हैं।
कई भाषाओं में उपलब्ध : 
यह एप मराठी, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, तेलुगू, तमिल और बांग्ला भाषा में काम करता है। यह एप ऑफलाइन भी काम करता है। एंड्राइड जेलीबीन या उससे आगे के सभी एंड्राइड स्मार्टफोन पर काम करता है। फोह्नर के अनुसार इस एप को विकसित करने में गूगल की मैप सेवा, आवाज पहचान सेवा, स्थानीय भाषा सहयोग सेवा पर किए गए काम का भी लाभ लिया गया।

Himalaya

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *